कौन करता है रात के अंधेरे में दिल्ली में उगाही? 5 नम्बर, ट्रैफिक पुलिस, दिल्ली पुलिस या कोई ... ... ...

वैन (एक्सक्लूसिव दिल्ली) :: जब सारी दुनिया सो जाती है, अपनी पार्टी हो जाती है ... ... ... जी हां, बिलकुल सही सुन रहे हैं आप। जब आप रात के घोर अंधेरे में अपने-अपने घरों में चैन की नींद सोये होते हैं उस वक्त दिल्ली की दौड़ती-भागती सड़कों पर खुलेआम उगाही का खेल चलता है। अब सवाल सीधा-सीधा यह आता है कि यह उगाही आपकी और आपके अपनों की गैरमौजूदगी में करता कौन है?

इन्ही सब बातों के सवाल का जवाब ढूंढने जब हमारी टीम ने दिल्ली की सड़कों का रुख किया तो नज़ारा आश्चर्यजनक था। उस नज़ारे को देख हमारी टीम के भी होश फाख्ता थे।

जब हमारी टीम ने अपनी आंखों से दिल्ली की सड़कों पर दौड़ रहे वाहनों पर नज़र डाली तो हर वाहन को रोककर उगाही की जा रही थी। हर उगाही का कोड अलग-अलग था। छोटे वाहन से कुछ और, उससे बड़े से कुछ और तथा इसी तरह वाहन की लम्बाई, चौड़ाई और ऊंचाई बढ़ने के साथ-साथ उनकी उगाही के रेट अलग-अलग हो जाते हैं। जिसको ट्रांसपोर्टर की भाषा में कहा जाता है गुंडा टैक्स। जी हां, गुंडा टैक्स; ये वो गुंडा टैक्स है जिसके नाम में तो जुड़ा है गुंडा लेकिन नाम के विपरीत इनको वसूलते हैं सरकारी मुलाज़िम। ऐसा ही नज़ारा कई जगह दिन की दौड़ती-भागती जिंदगी में भी दिखाई दिया जहां यही सरकारी बाशिंदे चालान काटने के नाम पर 15,000 से 20,000 के चालान काटने की एवज़ में आपसे गुंडा टैक्स वसूल लेते हैं जो सरकारी खाते की जगह उनकी जेभ का सीधे-सीधे वजन बढ़ाता है।

इसी के दूसरी तरफ अगर नज़ारा समझने की कोशिश करें तो आपको हम बहुत जल्द दिखायेंगे कि किस तरफ यही सरकारी बाशिन्दे अपनी सरकारी गाड़ियों में दारु भी लाते-लेजाते हैं, जो सीधे-सीधे आपके और हमारे द्वारा सरकार को दिये गए टैक्स का दुरूपयोग है।

ऐसे ही कुछ खुलासों पर अब है टीम वैन की नज़र और हम करेंगे इनके खुलासे परत दर परत। तो हो जाइये तैयार आपकी रखवाली में तैनात इन सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों की असलियत जानने के लिए, जो हम सबूत के साथ पेश करेंगे आपकी खिदमत में हर हफ्ते एक नये खुलासे के साथ।

Responses

5 number or Police dono hi krte h ughayi

  • 03 December 2020 13:10
  • Sachin

सच का खुलासा हकीकत के दर्शन वेंगा वर्जन

  • 03 December 2020 13:07
  • Rajendra

Leave your comment