सरकार का मंदिर अधिग्रहण निर्णय घोर आपत्तिजनक - विश्व हिन्दू परिषद्

हरियाणा (करनाल) :: हरियाणा सरकार द्वारा चण्डी माता मंदिर और हिसार जिले के बनभौरी गांव के दुर्गा माता मंदिर का अधिग्रहण किये जाने पर विश्व हिन्दू परिषद्, हरियाणा ने रोष प्रकट किया है। इस विषय पर प्रान्त मंत्री ऋषि पाल शास्त्री ने कहा की सरकार का यह निर्णय घोर आपत्तिजनक है। लॉकडाउन के समय जब सब सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाएं सेवा कार्य कर रही थी, सरकार ने यह निर्णय कर लिया क्योंकि सामान्य परिस्तिथियों में इसका विरोध हो सकता था। बेरी (रोहतक) में भी ऐसा ही निर्णय सरकार ने किया था जो स्थानीय हिन्दू समाज और विहिप के विरोध के कारण मंदिर अधिग्रहण के निर्णय को वापिस लेना पड़ा था। प्रान्त मंत्री ने आगे कहा कि केंद्र सरकार एक गैर - सरकारी ट्रस्ट बनाकर अयोध्या में श्री राम मंदिर का निर्माण और संचालन करवा रही है। क्या हरियाणा सरकार केंद्र सरकार की नीति को सही नहीं मानती ? मंदिरों में मोटे चढ़ावे से कल्याणकारी योजनाएं बनेंगी - मुख्यमंत्री का यह वक्तव्य क्या हिन्दू समाज की भावना आहत नहीं करता ? फिर कौन से ऐसे कल्याणकारी कार्य हैं जो प्रशासन ने कहा और मंदिरों ने मना कर दिया हो ? स्पष्ट करे सरकार !

विहिप, हरियाणा मांग करती है कि सरकार कोई ऐसा कार्य ना करे जिसके कारन हिन्दू समाज को आंदोलन करने के लिए मजबूर होना पड़े क्योंकि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने बनभौरी के दुर्गा माता मंदिर के अधिग्रहण का प्रयास किया था जो हिन्दू समाज के भारी आंदोलन के फलस्वरूप विफल हुआ था। अतः सरकार हिन्दू समाज को आंदोलन करने के लिए मजबूर न करे और इस हिन्दू विरोधी निर्णय को तुरंत वापिस ले तथा क्या कल्याणकारी कार्य सरकार मंदिरों के पैसे से कराना चाहती है, समाज के सामने रखे।

Responses

Leave your comment