प्रदूषण को नियंत्रित ना कर पाने के कारण गुरुग्राम बना सबसे प्रदूषित शहर

व्यूज़ 24 (सूरज दुहन - गुरुग्राम, हरियाणा) :: राजधानी दिल्ली से सटी साइबर सिटी गुरुग्राम में उडती धूल ने स्थानीय निवासियों की परेशानी बढ़ा दी है। एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) यहां 300 पार बना हुआ है। पीएम 2.5 का स्तर भी सामान्य से काफी ऊपर। तेज हवा के चलते उड़ रही धूल शहर के लोगों को परेशान कर रही है। धूल-मिट्टी के चलते प्रदूषण स्तर काफी बढ़ गया है। सोमवार को भी एक्यूआई 300 पॉइंट के पार रहा। दोपहर बाद 4 बजे एक्यूआई 306 दर्ज किया गया। वहीं सोमवार को एक्यूआई स्तर न्यूनतम 258 और अधिकतम 352 दर्ज किया गया। शाम के समय प्रदूषण का स्तर कम हो गया और हालात कुछ राहत दिलाने वाले बने। सोमवार सुबह 8 बजे पीएम 2.5 का स्तर 153 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर रहा। 10 बजे यह 163, 12 बजे 167 तक गया। दोपहर बाद 2 बजे यह 136 पर आया और फिर नीचे आता रहा। 4 बजे यह स्तर 121 और 6 बने 119 तक नीचे आ गया।

सोमवार दोपहर के समय गर्मी ने भी शहर के लोगों को खासा परेशान किया। अधिकतम तापमान 40 तक पहुंच गया और न्यूनतम 26 दर्ज किया गया। शाम को बारिश की संभावना के चलते मौसम कुछ सुहावना हुआ। आसपास के कुछ एरिया में बारिश हुई तो शहर में भी रात तक बारिश की संभावना बनी रही। शाम साढ़े 4 बजे के बाद कुछ देर धूल उड़ी तो फिर बादल आसमान में छा गए। इसके चलते तापमान भी 6 बजे 33 प्रतिशत दर्ज किया गया। प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के रीजनल ऑफिसर कुलदीप सिंह ने बताया कि रात तक बारिश की संभावना बन रही है। हवा में शामिल यह धूल बारिश से ही खत्म होगी; जिसके बाद प्रदूषण स्तर नीचे आएगा और लोगों को राहत मिलेगी।

साइबर सिटी में प्रदूषण लेवल बढ़ता और घटता रहता है जहां उड़ती धूल ने सोमवार को सिटी-वासियों को काफी परेशान किया जिससे कि प्रदूषण लेवल 300 के पार हो गया। वहीं बारिश ने बढ़ते प्रदूषण लेवल को घटा दिया। साइबर सिटी गुरुग्राम में लगातार प्रदूषण की मार से साइबरसिटी जल रहा है। घटते पेड़, बढ़ता प्रदूषण नियमों की अनदेखी, जलते कूड़े के ढेर, निर्माण कार्यों में अनियमितता कहीं ना कहीं बढ़ते प्रदूषण का कारण बना हुआ है। इससे हवा में घुलता जहर लोगों के लिए मौत बन कर सामने आ रहा है जबकि डॉक्टरों की मानें तो प्रदूषण से बचने के लिए मुंह पर मास्क लगाकर बाहर निकलना चाहिए और साथ ही साथ डॉक्टरी सलाह के अनुसार सेफ्टी उपकरण इस्तेमाल करने चाहियें। इन सबके इतर सवाल उठता है कि गुरुग्राम को सबसे प्रदूषित शहर की श्रेणी में रखा गया है; बावजूद उसके भी सरकार और अधिकारी बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं लेकिन प्रदूषण पर कंट्रोल पाना नाकाम साबित हो रहा है। कब होगा कंट्रोल या गुरुग्राम बनेगा आनेवाले दिनों में दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर, यह तो समय के गर्भ में है।

Responses

Leave your comment