कोरोना संक्रमण से बाल-बाल बचा इंद्रप्रस्थ मिलेनियम पार्क; षड्यंतत्रों का भंडाफोड़ कर विहिप ने भेजी उपराज्यपाल को चिट्ठी

दिल्ली ब्यूरो :: विश्व हिंदू परिषद तथा स्थानीय गाँव नंगली रजापुर के नागरिकों की सजगता से इंद्रप्रस्थ मिलेनियम पार्क घुसपैठ व कोरोना संक्रमणों की मार से बाल बाल बचा। विश्व हिंदू परिषद ने ना सिर्फ डीडीए के इस सुंदर उपवन पर लॉक डाउन की आड़ में किए गए अनाधिकृत कब्जे को रोका बल्कि कोविड-19 संक्रमित शवों को यहाँ लाकर दफनाने तथा उससे फैलने वाले संक्रमण से पार्क में सैर करने वाले व स्थानीय निवासियों की रक्षा भी की। इस सम्बंध में इंद्रप्रस्थ विहिप के अध्यक्ष श्री कपिल खन्ना द्वारा हस्ताक्षरित एक पत्र आज दिल्ली के उपराज्यपाल तथा क्षेत्रीय सांसद श्री गौतम गम्भीर को भेजा गया है।

इस पत्र में कहा गया है कि दिल्ली वख्फ बोर्ड कोविड-19 लॉक डाउन की आड़ में बार-बार दिल्ली के इस प्रतिष्ठित इंद्रप्रस्थ मिलेनियम पार्क पर अवैध कब्जा करने के नए नए हथकंडे अपना रहा है। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए शवों को जलाए जाने के स्थान पर उन्हें दफनाने हेतु इस पार्क को कब्रिस्तान बता कर पार्क में आने वाले हजारों स्थानीय नागरिकों व सैलानियों के लिए संकट पैदा करने की कोशिशें की जा रही हैं। गत एक महीने में अनेक बार पार्क में घुसने के प्रत्यक्ष व परोक्ष प्रयास किए गए किन्तु स्थानीय निवासियों विहिप कार्यकर्ताओं व चौकीदारों की चौकसी ने उन सभी को निष्फल कर दिए।

गत रविवार 17 मई को तो पार्क का ताला तोड़कर घुसने के विरुद्ध पुलिस को 100 नम्बर पर कॉल कर घुसपैठ की सूचना भी चौकीदारों ने दी किन्तु स्थानीय पुलिस की मिलीभगत से घुसपैठिए दो दिन तक पार्क को JCB की मदद व कर्मचारियों के साथ मिलकर उसे उजाड़ते रहे। जब विहिप कार्यकर्ताओं को मामले की भनक लगी तब ही घुसपैठिए वहाँ से रफादफा हुए।

विश्व हिंदू परिषद ने मांग की है कि पार्क में अनाधिकृत कब्जा करने वालों तथा उनका साथ देने वालों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही हो तथा पार्क के गेट पर जड़े कब्रिस्तान के बोर्ड को अबिलम्ब हटाया जाए।

विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री विनोद बंसल का यह भी कहना है कि राजधानी के इस प्रतिष्ठित सुरम्य उद्यान को कब्रिस्तान बनाने की किसी भी कोशिश या उसके षड्यंत्र का मुँहतोड़ जबाब दिया जाएगा।

ज्ञातव्य रहे कि दिल्ली वख्फ बोर्ड ने 9 अप्रेल को एक पत्र दिल्ली सरकार को लिखकर इस पार्क को कब्रिस्तान बता वहाँ पर दिल्ली भर के कोविड संक्रमित शवों को दफनाने की मांग की थी। इस पर राज्य सरकार ने लगता है कि अभी तक अधिकृत रूप से तो कोई निर्णय नहीं लिया है किंतु पीछे के दरवाजे से लेंड जिहादियों को सहयोग स्पष्ट दिख रहा है। इसकी भी विहिप ने कड़ी निंदा की है। स्थानीय नंगली रजापुर गांव की आरडब्ल्यूए ने भी गत माह एक पत्र दिल्ली के उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री, डीडीए, पुलिस आयुक्त तथा अन्य सम्बंधित अधिकारियों को मेल किया था जिसका एक रिमाइंडर भी 18 मई को पुनः भेजा किन्तु किसी का आज तक जबाव नहीं मिला। RWA पदाधिकारियों का कहना है कि हम किसी भी कीमत पर पार्क को कोविड कब्रिस्तान नहीं बनने देंगे।

Responses

Leave your comment