सड़क नहीं, अबकी बार संसद कूच करेंगे किसान - तालु

वैन (भिवानी - हरियाणा ब्यूरो - 28.01.2022) :: तीन कृषि कानूनों ने सरकार के खिलाफ एक वर्ष तक संघर्ष किया, जिसके बाद केंद्र सरकार द्वारा एमएसपी का कानून बनाने, किसानों पर दर्ज केस वापस लेने सहित कई अन्य मांग माने जाने के आश्वासन के बाद किसान धरने से उठ गए, लेकिन सरकार द्वारा किसानों की मांगें अभी तक नहीं मानी गई है, जिसके विरोध में किसानों ने 31 जनवरी को देश भर में विश्वासघात दिवस मनाने का फैसला लिया है। इस दौरान किसानों द्वारा केंद्र सरकार का पुतला जलाकर विश्वासघात दिवस मनाया जाएगा तथा आगामी आंदोलन की रूपरेखा बनाई जाएगी। विश्वासघात दिवस में भागीदारी के लिए शुक्रवार को किसान नेता जोगेंद्र तालु ने कुंगड़, खेड़ी, बड़सी, दुर्जनपुर, अलखपुरा, सिवाड़ा सहित अनेक गांवों का दौरा किया तथा ज्यादा से ज्यादा संख्या में कार्यक्रम में भागीदारी के लिए आह्वान किया। इस मौके पर किसान नेता जोगेंद्र तालु ने कहा कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ अन्नदाताओं ने एक वर्ष तक संघर्ष किया था, जिसके बाद सरकार को झुकना पड़ा। लेकिन केंद्र की ढोंगी सरकार ने किसानों को झूठा आश्वासन देकर धरने से हटा दिया। उन्होंने कहा कि यदि अब भी उनकी मांग नहीं मानी गई तो वो इस बार पहले से भी बड़ा आंदोलन करेंगे तथा इस बार किसान सडक़ों पर नहीं, सीधे संसद कूच करेंगे। उन्होंने कहा कि किसान सेना अभी बैरक में गई है, आंदोलन खत्म नहीं हुआ है। अब सरकार किसानों की ताकत 31 जनवरी को विश्वासघात दिवस के दिन देखेंगी। इस अवसर पर राजसिंह धनाना, विक्की तालु, सुखबीर तालु, बिल्लू खेड़ी, रामनिवास खेड़ी, आजाद बड़सी, रोशन बड़सी, धर्मबीर नंबरदार कुंगड़, रामेहर नंबरदार कुंगड़, कृष्ण दुर्जनपुर, सज्जन दुर्जनपुर, बिजेंद्र तालु सहित अनेक किसान मौजूद रहे।

Responses

Leave your comment