आईएसआई द्वारा 40 घंटे तक टॉर्चर कर घायल किये गये "विंग कमांडर अभिनन्दन" के स्क्वाड्रन को मिली "FALCON SLAYERS" की नई पहचान

वैन (स्पेशल डेस्क) :: मिग-21 बायसन से पाकिस्तान के एफ-16 को मार गिराने वाले बहुचर्चित विंग कमांडर अभिनंदन की पाकिस्तानी सेना और आईएसआई की कस्टडी के बारे में नित नई बातें सामने आ रही हैं। अब यह बताया जा रहा है कि विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तानी सेना के हाथ लगने के बाद सिर्फ 4 घंटे ही पाकिस्तानी सेना की कस्टडी में रखे गये जिसके बाद उन्हें इस्लामाबाद से रावलपिंडी ले जा कर आईएसआई को सौंप दिया गया जिन्होंने लगभग अगले 40 घंटों तक स्ट्रॉन्ग रूम में रख विंग कमांडर अभिनंदन को टॉर्चर किया। इस दौरान आईएसआई द्वारा भारत की खुफिया एजेंसी रॉ (रिसर्च ऐंड ऐनालिसिस विंग) को लेकर भी कई भद्दे कमैंट्स किये गये।

इस दौरान लगातार उनकी आंखों में पट्टी बांधकर रखी गई थी जिससे वह कुछ भी नहीं देख और समझ नहीं पा रहे थे। अभिनंदन द्वारा इंडियन एयर फोर्स के अधिकारियों को बताये अनुसार उन्हें बस यह समझ आ रहा था कि उन्हें एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा रहा है लेकिन आंखों पर पट्टी बंधी में पट्टी बांधी गई थी।

सूत्रों के अनुसार यह भी सामने आया है कि अभिनंदन जितने वक्त पाकिस्तान आर्मी की कस्टडी में थे तब तो उनके साथ कुछ ठीक तरीके से बर्ताव किया गया लेकिन आईएसआई ने उनसे जानकारियां उगलवाने के लिये हर तरीके से टॉर्चर किया। जब अभिनंदन पाकिस्तान के कब्जे वाले इलाके में गिरे तब उन्हें पकड़ने के लिए राइफल की बट से उनके माथे पर मारा गया और आंख के ऊपर जो कट का निशान है, यह उस वजह से आया। लेकिन दायीं आंख के चारों तरफ जो गहरा काला निशान है और आंख में चोट है वह आईएसआई के टॉर्चर का नतीजा है।

सूत्रों के अनुसार यह बात भी सामने आ रही है कि अभिनंदन को आईएसआई भारत को वापस करने को तैयार नहीं थी लेकिन पाकिस्तान पर बने चौतरफा दबाव के बावजूद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने हस्तक्षेप किया और अभिनंदन को भारत को वापस सौंपने का फैसला हुआ। आईएसआई के बाशिंदे टॉर्चर करते वक्त अभिनंदन से यह ही कहते थे कि तुम्हें तुम्हारी रॉ भी नहीं बचा पाएगी।

अभिनन्दन का हुआ न्यूरो और आँखों का ट्रीटमेंट

भारत वापस आने के बाद अभिनंदन का न्यूरो ट्रीटमेंट और आंखों का ट्रीटमेंट हुआ है। अभी उनकी मेडिकल कैटिगरी डाउन कर दी गई है लेकिन जल्द ही इसका रिव्यू किया जाएगा।

चुप रहे अभिनंदन, उगलती रही भारतीय मीडिया

सूत्रों के अनुसार, अभिनंदन ने यह भी बताया कि उनसे पूछताछ के दौरान यह भी कहा गया कि वह भले ही अपने बारे में कुछ जानकारी नहीं दे रहे हों, लेकिन इंडियन मीडिया के जरिए उन्हें उनके परिवार से लेकर उनके पिता के रिटायर्ड एयर फोर्स ऑफिसर होने और उनके घर के पते तक सारी जानकारी मिल गई है।

अभिनन्दन ने बताया सिर्फ चाय वाला विडियो सही बाकी सब नकली

पाकिस्तान ने अभिनंदन का जो चाय वाला विडियो रिलीज किया उस बारे में अभिनंदन ने बताया कि वह विडियो सही है जिसमें वह कह रहे हैं, 'द टी इज फनटैस्टिक (चाय बेहद बढ़िया है)।' हालांकि अभिनंदन ने दूसरे विडियो को सिरे से खारिज कर दिया और कहा कि वह फर्जी विडियो है।

बताया जा रहा है कि अभिनंदन को छोड़ने के बाद पाकिस्तान ने जो 1 मिनट 23 सेकंड का विडियो रिलीज किया उस बारे में अभिनंदन ने कहा कि यह उनकी आवाज नहीं है और यह उन्होंने कभी नहीं कहा। इस छोटे से विडियो में 15 से ज्यादा कट हैं जिसमें अभिनंदन पाकिस्तान आर्मी की तारीफ करते और इंडियन मीडिया की आलोचना करते सुनाई दे रहे हैं। भारत वापसी के बाद अभिनंदन का एयर फोर्स के सीनियर अधिकारियों के साथ डीबीफ्रिंग सेशन हुआ। जिसमें एक ही सवाल कई बार पूछे गए, घुमा-फिराकर पूछे गए ताकि कोई भी चूक ना हो और सुरक्षा से किसी भी तरह का कोई समझौता ना हो।

"FALCON SLAYERS" बना विंग कमांडर अभिनन्दन का स्क्वाड्रन

इन सब ख़बरों के इतर एक नई खबर यह भी है कि मिग-21 बायसन से पाकिस्तान के एफ-16 को मार गिराने वाले विंग कमांडर अभिनंदन के पूरे स्वाड्रन को नई पहचान दे दी गई है। पूरे स्क्वाड्रन को पाकिस्तानी विमान गिराने की ख़ास पहचान से नवाज़ा गया है। इस पहचान से पूरा स्क्वाड्रन सबसे अलग उनकी वर्दी पर लगाये गए एक ख़ास बैज से पहचाना जाएगा कि यही वह सूरमा हैं जिन्होंने पुराने मिग-21 बायसन से पाकिस्तान के आधुनिक एफ-16 को मार गिराया था।

Responses

Leave your comment